Wednesday, June 20, 2018

अमेरिका ने दुनिया का सबसे तेज सुपरकम्प्यूटर 'समिट' बनाया

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने 'समिट' नामक दुनिया के सबसे शक्तिशाली और सबसे बुद्धिमान वैज्ञानिक सुपरकंप्यूटर का अनावरण किया है जो प्रति सेकंड 200,000 ट्रिलियन गणनाओं को पूरा कर सकता है - ऊर्जा, उन्नत सामग्री और कृत्रिम बुद्धि (AI) में अनुसंधान के लिए अभूतपूर्व कंप्यूटिंग शक्ति प्रदान करता है। अमेरिका के ऊर्जा विभाग ओक रिज नेशनल लेबोरेटरी (ORNL) के सुपरकंप्यूटर समिट अपने पिछले शीर्ष रैंकिंग सिस्टम-टाइटन की तुलना में आठ गुना अधिक शक्तिशाली होगा। अभी तक चीन का सनवे ताइहूलाइट (Sunway TaihuLight) दुनिया का सबसे तेज सुपरकम्प्यूटर था जो एक सेकेण्ड में 93 पेटाफ्लॉप्स गणनाएं करने में सक्षम है। चीन से इस सुपरकम्प्यूटर के द्वारा अमेरिका से सबसे तेज सुपरकम्प्यूटर का खिताब हासिल किया था।
समिट सुपरकम्प्यूटर का कुल भार 340 टन है, इसे ठण्डा रखने के लिए करीब 4 हजार गैलन पानी की आवश्यकता पड़ती है तथा यह 8,000 अमेरिकी घरों द्वारा प्रयोग में लाई जाने वाली ऊर्जा के बराबर ऊर्जा खपत करता है। इसका आकार लॉन टेनिस के तीन कोर्ट के बराबर है। जहाँ तक इसके प्रयोग की बात है तो इसका इस्तेमाल विज्ञान से लेकर औषधि तक अनेकानेक कार्यों के लिए किया जा सकेगा। यह अमेरिका में कैंसर ग्रस्त लोगों की जनसंख्या का काफी विस्तृत आकलन कर सकेगा तथा अल्ज़ाइमर जैसे रोगों के कारणों तथा पैटर्न का अध्ययन कर सकेगा।

Wednesday, January 10, 2018

Pratyush - India's fastest Supercomputer

Union Minister for Science and Technology Harsh Vardhan on 8th January 2018 dedicated India’s fastest and first ‘multi-petaflops’ supercomputer Pratyush to the nation at Indian Institute of Tropical Meteorology (IITM), Pune. Christened ‘Pratyush’, meaning the sun, the High Performance Computing (HPC) facility has been established at the Indian Institute of Tropical Meteorology (IITM), Pune, and will be a national facility for improving weather and climate forecasts, an IITM release said. While inaugurating the facility, the minister said that it would be India’s number one HPC facility in terms of peak capacity and performance.
Pratyush has 6.8 PF computational power installed at two MoES Institutes. 4.0 Peta Flops HPC facility at IITM, Pune and 2.8 Peta Flops facility at NCMRWF, Noida. (PF is a measure of a computer’s processing speed). Pratyush is fourth fastest supercomputer in world dedicated for weather and climate research. It follows supercomputing machines in Japan, US and United Kingdom. It will improve rankings of Indian supercomputer from 300s to 30s in Top500 list, a respected international tracker of the world’s fastest supercomputers. The key function of the High Performance Computing (HPC) facility will be monsoon forecasting using dynamical model which requires simulating weather for given month and letting custom-built model calculate impact of actual weather over coming months. It will enable to map regions in India at resolution of 3 km and globe at 12 km.

Sunday, November 26, 2017

कंप्यूटर सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी No. 86

कंप्यूटर सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी (Computer GK Quiz in Hindi) GK Sample Question Paper No. 86:  Computer GK Sample Question Paper as part of Computer GK Sample Papers for Competitive Exams, PSU Exam, State Govt & Central Govt. Examinations held each years.  You can also check More Questions, Exam Papers in Hindi and Enlish from our Free Mobile App of "COMPUTER GK" from Link: DOWNLOAD COMPUTER GK Mobile AppDownload Computer GK Mobile App: https://play.google.com/store/apps/details?id=com.csurender.computer

कंप्यूटर प्रश्नोत्तरी | Computer History Quiz 86 in Hindi:
आईपी का पूर्ण रूप क्या है ? A. इंडियन प्रोटोकॉल B. इंटरनेशनल प्रोटोकॉल C. इंटरनेट प्रोटोकॉल D. इंकजेट प्रिंटर Answer: C निम्नलिखित में से कौन-सा सर्च इंजन नहीं है ? A. लायकोस B. गूगल C. अल्ट्राविस्टा D. केटपाइल Answer: D www का पूर्ण रूप क्या है ? A. बेस्ट वाइल्ड रेसलर B. वर्ल्ड वाइड वेब C. वर्ल्ड वाइड वीडिंग D. वर्ल्ड वर्ल्ड रेसलिंग Answer: B अगर कंप्यूटर में एक से ज्यादा प्रोसेसर होते हैं तो उसे कहा जाता है ? A. यूनी प्रोसेसर B. मल्टी प्रोसेसर C. मल्टी थिरेडड D. मल्टी प्रोग्रामिंग Answer: B पहले वायरस प्रोग्राम का नाम क्या था ? A. बेव हर्ट B. कोड वर्स C. डेथ वारंट D. इनमें से कोई नहीं Answer: B यूआरएल का पूर्ण रूप है ? A. यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर B. यूनिफार्म रिसोर्स लिंक C. यूनिफॉर्म रजिस्टर लिंक D. यूनिफाइड रिसोर्स लिंक Answer: A कंप्यूटर में जीयूआई का पूर्ण रूप क्या है ? A. ग्राफिकल यूज़र इंस्ट्रूमेंट B. ग्राफिकल यूनिफाइड इंटरफ़ेस C. ग्राफिकल यूनिफाइड इंस्ट्रूमेंट D. ग्राफिकल यूज़र इंटरफ़ेस Answer: D मेमोरी और एल एल यू के मध्य संचार के लिए क्या उपयोग होता है ? A. कीबोर्ड B. रेम C. USB D. कंट्रोल यूनिट Answer: D USB किस प्रकार का डिवाइस है ? A. प्राइमरी B. द्वितीयक C. तृतीयक D. उपरोक्त सभी Answer: B कंप्यूटर चिप बनाने के लिए क्या उपयोग किया जाता है? A. कॉपर B. स्टील C. सिलिकॉन D. लोहा Answer: C

DOWNLOAD "COMPUTER GK" Mobile App in Hindi, English with Computer Notes, Objective Questions and OLD exam Papers of SSC, IBPS, Banking, Police and state government examinations.

Tuesday, August 22, 2017

What is Name of Android 8 - Android Oreo

What is Name of Android O or 8.0 ? Android Oreo: Google on 21st August launched its version 8.0 of operating system as Android Oreo. The Oreo boasts a doubling of boot speed, an autofill option, and a longer battery life. The new update comes with a Picture-in-Picture feature that allows the user to see two apps simultaneously. There is also a Notification Dots option which, when pressed, pops the notification out at a glance without having to open the app. Android Instant Apps is another new feature, which teleports directly into new apps from the browser, no installation needed.
Android Oreo is more secure with Google Play Protect built in, security status front and centre in settings, and has tighter app install controls. Google said that as far as its own devices were concerned, the Android O will be available for Nexus 5X, Nexus 6P, Nexus Player, Google Pixel C, Google Pixel and the Google Pixel XL. The company adds that all the devices enrolled in the beta program will automatically get the Android Oreo update.

UMANG Mobile app

UMANG (Unified Mobile Application for New-age Governance) is envisaged to make e-governance . It is developed by Ministry of Electronics and Information Technology (MeitY) and National e-Governance Division (NeGD) to drive Mobile Governance in India. UMANG provides a single platform for all Indian Citizens to access pan India e-Gov services ranging from Central to Local Government bodies and other citizen centric services. 

  • UMANG intends to provide major services offered by Central and State Government departments, Local bodies and other utility services from private organizations. 
  • It provides a unified approach where citizens can install one application to avail multiple government services. 
  • UMANG provides easy access to a plethora of Indian government services ranging from – Healthcare, Finance, Education, Housing, Energy, Agriculture, Transport to even Utility and Employment and Skills.
  • Single-Point Ubiquitous Access: All government services are available for citizens on a unified platform for easy access through multiple online and offline channels (SMS, email, app, and web). 
  • Citizens do not even need to install or update the app again to avail government services if more services are added to the platform.
  • Citizens can anytime and anywhere avail these services through their mobile phones, desktops, and laptops without any need for visiting the department office and standing in queues.
  • All the government services including payment-based transactions provide secure and uniform experience.

Saturday, August 19, 2017

डिजिटल इण्डिया (Digital India) कार्यक्रम

डिजिटल इण्डिया (Digital India) कार्यक्रम की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2 जुलाई 2015 को की थी। डिजिटल इण्डिया कार्यक्रम सरकारी विभागों एवं भारत के लोगों को एक दूसरे के पास लाने की भारत सरकार की एक पहल है। डिजिटल इंडिया कार्यक्रम का उद्देश्य देश को डिजिटल रूप से सशक्त समाज और ज्ञान अर्थव्यवस्था में परिणत करना है। यह कार्यक्रम इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग (डीईआईटीवाई) द्वारा परिकल्पित किया गया है। यह कार्यक्रम वर्तमान वर्ष से 2018 तक चरणबद्ध तरीके से कार्यान्वित किया जायेगा। 

  • डिजिटल इंडिया कार्यक्रम (परिवर्तनकारी प्रकृति का है जो यह सुनिश्चित करेगा की सरकारी सेवाएँ इलेक्ट्रॉनिक रूप से नागरिकों के लिए उपलब्ध हैं।
  • वर्तमान में अधिकतर ई-गवर्नेंस परियोजनाओं के लिए धन का स्रोत केन्द्रीय या राज्य सरकारों में संबंधित मंत्रालयों / विभागों के बजटीय प्रावधानों के माध्यम से होता है। 
  • डिजिटल इंडिया की परियोजना(ओं) के लिए धन की आवश्यकताओं का आकलन संबंधित नोडल मंत्रालयों/विभागों द्वारा किया जाएगा।
  • डिजिटल इंडिया कार्यक्रम का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि बिना कागज के इस्तेमाल के सरकारी सेवाएं इलेक्ट्रॉनिक रूप से जनता तक पहुंच सकें। 
  • इस योजना का एक उद्देश्य ग्रामीण इलाकों को हाई स्पीड इंटरनेट के माध्यम से जोड़ना भी है। 
  • डिजिटल इंडिया के तीन कोर घटक हैं-
    1. डिजिटल आधारभूत ढाँचे का निर्माण करना,
    2. इलेक्ट्रॉनिक रूप से सेवाओं को जनता तक पहुंचाना,
    3. डिजिटल साक्षरता।
  • उमंग (UMANG -Unified Mobile Application for New-age Governance) एक ई-गवर्नेंस हेतु भारत सरकार की एक प्रमुख मोबाइल एप्प है। यह इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) और नेशनल ई-गवर्नेंस प्रभाग (NeGD) द्वारा विकसित की है।
  • Check Complete डिजिटल इण्डिया (Digital India) कार्यक्रम NOTES and More Computer GK in Hindi and English at COMPUTER GK Free Mobile app.

Friday, August 18, 2017

Google Launches 'Made in India' Android app Programme

Google announced its Made in India program on 1st August 2017 in Bengaluru. Indian developers can apply for a chance to have apps specifically optimised for the Indian market showcased on the Google Play store in India in a special section. “At Google Play, we are committed to helping Indian developers of all sizes seize this opportunity and build successful, locally relevant businesses,” said Purnima Kochikar, director of business development for games and applications, Google Play.
Google highlights that more than 70 percent of Internet users in India enter the Web primarily using smartphones. This growth has shown a potential to the company to encourage domestic developers to build more apps and games. The expansion in terms of content would give way to the Android maker to widen its presence in India and around the globe. Revealing some numbers to persuade further developments, Google underlines that Indian users on Android install more than a billion apps every month from Google Play, and this number is growing by 150 percent each year.